Bhavishy Darshan
स्वास्थ्य प्राप्ति उपाय
यंत्र : ताम्बे का सिद्ध श्री महामृत्युंजय यन्त्र पूजा में विधिवत् स्थापित कर पूजन करें।
मंत्र: रोग नाश के लिए- 
ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम ।
उर्वारूकमिव बंधनान्मृत्योर्मुक्षीय माऽमृतात ।।
या 
ॐ नमः शिवाय ॐ महामृत्युंजय नमः मंत्र का १ या ५ माला रुद्राक्ष की माला से जाप करें 
मंत्र का नित्य जाप करें। 
कवच:
स्वास्थ रक्षा एवं असाध्य रोग निवारण हेतु गले में सिद्ध महामृत्युंजय रक्षा कवच धारण करें 
रत्न :  लग्नेश का रत्न धारण करें। 
रूद्राक्ष : एक मुखी रूद्राक्ष एवं पांच मुखी रूद्राक्ष धारण करें।
व्रत : रविवार का व्रत, निर्जला एकादशी एवं धनतेरस व्रत का पालन करें।
दान : निरोगी शरीर पाने के लिए अन्न और जल का दान करें।
(योग ज्योतिषी से परामर्श करने के पश्चात) 
दर्शन : सिद्ध श्री महामृत्युंजय यन्त्र के दर्शन, पूजन करें।
विसर्जन : प्रत्येक रविवार गुंड़ और चावल को नदी अथवा बहते पानी में प्रवाहित करें।
स्तोत्र : ‘अथ सूर्यकवचम्’ का पाठ दीर्घायु प्रदान करता है।
टोटके: 1- अशोक के पेड़ की तीन ताजा पत्तियों को चबाने से चिंताओं से मुक्ति मिलती है और स्वास्थ्य भी उत्तम बना रहता है।
2- बीमारी व्यक्ति के तकिये के नीचे सहदेई और पीपल की जड़ रखने से बीमारी जल्द ठीक हो जाती है।
3- यदि किसी व्यक्ति को मृत्युतुल्य कष्ट हो रहा हो, तो जौ के आटे में काले तिल और सरसों का तेल मिलाकर रोगी के ऊपर से सात बार उतार कर किसी भैंसे को खिलाएं, शीध्र लाभ मिलेगा।
विशेष: हवन, यज्ञ: महामृत्युंजय मंत्र जाप हवन/यज्ञ कराएं।
Bhavishy Darshan
Home
YourQuery
Rashiphal
Horoscope
favGems
LalKitab
Matching
Rahukal
Consultation
Chaukaria
Panchang
Gems
BabyName
Asc.Table
Education
TarotCard
Prog.Name
Numerology
About us
DISCLAMER-There are no guarantees that every person using this service will get their desired results for sure. Astrological results depend on a lot of factors and the results may vary from person to person.