Bhavishy Darshan
कालसर्प योग द्वारा बाधायें
     1. क्‍या आप नौकरी को लेकर बेहद परेशान हैं?
     2. क्‍या आप कड़ी मेहनत करते हैं, फिर भी परिणाम अच्‍छे नहीं मिलते?
     3. क्‍या आप संतान को लेकर परेशान हैं, या आपको संतान प्राप्ति नहीं हो रही है?

      यदि ऐसा है, तो अपनी कुंडली खुद देखें, कहीं उसमें काल सर्प योग तो नहीं? अगर है, तो निश्चित तौर पर आप किसी न किसी परेशानी से जरूर जूझते रहेंगे।
     काल सर्प योग महज कुछ ग्रहों का योग है, जो कुडली में बनता है। नवग्रहों में राहु और केतु दोनों ही छाया ग्रह हैं। ज्‍योतिष की दृष्टि से इनके प्रभाव काफी कम होते हैं। राहु के जन्‍म के नक्षत्र के देवता यम यानी काल हैं और केतु के जन्‍म नक्षत्र आश्‍लेषा के देवता सर्प हैं। राहु के गुण और अवगुण शनि की तरह ही होते हैं। यही कारण है कि यह शनि ग्रह के जैसे ही प्रभाव डालता है।
     इन्‍हीं दोनों ग्रहों के स्‍थान काल सर्प योग बनाते हैं, जिस कारण संतान अवरोध, घर में रोज-रोज कलह, शारीरिक विकलांगता, मानसिक दुर्बलता, नौकरी में परेशानी आदि बनी रहती है। जाने अंजाने में इस दौरान अशुभ कामों के चलते इनके फल काफी कष्‍ट दायक हो जाते हैं। राहु के देवता काल (मृत्‍यु) हैं, इसलिये राहु की शांति के लिये कालसर्प शांति आवश्‍यक है। असल में जब सभी ग्रह राहु और केतु के बीच में विचरण करते हैं, तब उस योग को काल सर्प योग कहा जाता है।
     व्‍यक्ति के भाग्‍य का निर्माण करने में राहु और केतु का महत्‍वपूर्ण योगदान रहता है। मेष से लेकर बारह अनंत कालसर्प बनेंगे। राहु सभी राशियों में लगभग 18 वर्षो में अपना गोचर पूर्ण कर लेता है। इस प्रकार 18 वर्षो में 12 प्रकार के 12 राशियों से अलग-2 कालसर्प बनेंगे। ग्रहों के गोचर के अनुसार एक ऐसी स्थिति भी बनती है, जब सभी ग्रह राहु-केतु के ओर होते है और दूसरी स्थिति में दूसरी तरफ होते है। इस प्रकार अनंत कालसर्प योग 12 गुणे 12 गुणे 2 योग 288 हुये। इसी प्रकार अन्य कालसर्प योग 288 प्रकार के ही होगें और पूरी गणना करने पर कालसर्प योगों की संख्या 288 गुणे 12 योग यानि 3456 होगी। यहां पर हम सिर्फ 12 प्रकार के कालसर्प योगों को क्रमानुसार बता रहें है।
     1- अनंत कालसर्प योग। 2- कुलिक कालसर्प योग। 3- वासुकि कालसर्प योग। 4- शंखपाल कालसर्प योग। 5- पद्म कालसर्प योग। 6- महापद्म कालसर्प योग। 7- तक्षक कालसर्प योग। 8- कर्कोटक कालसर्प योग। 9- शंखनाद कालसर्प योग। 10-पातक कालसर्प योग। 11- विषाक्त कालसर्प योग। 12- शेषनाग कालसर्प योग।      यदि आप जानना चाहते हैं कि आपकी कुंडली में काल सर्प योग है या नहीं। अगर है तो कौन सा है, तो यहाँ क्लिक करें।
      1. अनंत कालसर्प योग
      2. कुलिक कालसर्प योग
      3. वासुकि कालसर्प योग
      4. शंखपाल कालसर्प योग
      5. पद्म कालसर्प योग
      6. महापद्म कालसर्प
      7. तक्षक कालसर्प योग
      8. कार्कोटक कालसर्प योग
      9. शंखनाद कालसर्प दोष
      10. पातक कालसर्प योग
      11. विषाक्‍त कालसर्प योग
      12. शेषनाग कालसर्प योग
      13. कालसर्प का प्रभाव काल
      14. पीड़ादायक कालसर्प
      15. कालसर्प योग की पीड़ा
      16. कालसर्प योग में कम पीड़ा का योग
      17. कालसर्प दोष निवारण
      18. कालसर्प पूजा के कुछ फोटो
Bhavishy Darshan
AboutVastu Remedies Vastu Yantra Pyramids Fengshui
वास्तु के वारे वास्तु उपाय वास्तु यंत्र पिरामिड फेंगशुई